आईटीआई क्या है (What is ITI)

विद्यार्थीयो अगर आप यह जानना चाहते है किआईटीआई क्या है (What is ITI) या आईटीआई कोर्स मे प्रवेश लेना चाहते है तो यह इसके बारे में पूरी जानकारी होना अति आवश्यक है जिससे आप सही निर्णय आसानी से ले पाएगें। आज के इस लेख में हम इसके बारें में सम्पूर्ण जानकारी विस्तृत रूप से उपलब्ध करायेगें। इस लेख को पढ़ने के बाद आप आसानी से यह निर्णय ले पायेगें कि आईटीआई करने के लिए आपको किन बातों का ध्यान रखना है। जैसे-

आईटीआई क्या है

  • अपने ट्रेड का चुनाव कैसे करना है।
  • कितने समयावधि के कोर्स में प्रवेश लेना है।
  • आईटीआई के पढ़ाई के दौरान किन बातो का ध्यान रखना है।
  • आईटीआई के बाद क्या करना है।

आईटीआई का पूरा नाम(Full form of ITI) –

ITI का  पूरा नाम “औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान(Industrial Training Institute)” है।

आईटीआई क्या है (What is ITI) –

अगर आप जानना चाहते है कि आईटीआई क्या है(What is ITI) तो नीचे पढ़े।

घरेलू उद्योगों के लिए कुशल कारीगरो की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए औद्योगिक उतपादन में बृद्धि करने के लिए सन् 1950 में शिल्पकार प्रशिक्षण योजना (Craftsmen Training Scheme) के शुरूआत की गई यह योजना क्रमबद्ध प्रशिक्षण द्वारा औद्योगिक उतपादन की मात्रा और गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए शिक्षित युवाओ के बीच बेरोजगारी की को कम करने, रोजगार प्राप्त करने योग्य कौशल प्रदान करने के लिए शुरू की गई। वर्ष 1956 में शिल्पकार प्रशिक्षण योजना के अंतर्गत ITIs को राज्य सरकारो / संघ राज्य प्रशासनों में अन्तरित कर दिया गया

इस समय देश में 14000 से अधिक ITIs कार्यशील है जिसमें से 3000 से ज्यादा सरकारी तथा 11000 से भी ज्यादा निजी ITIs में प्रशिक्षण कार्यक्रम चल रहा है।

उद्देश्य(Purpose)-

आईटीआई का मुख्य उद्देश्य युवाओं को व्यावसायिक और तकनीकी ट्रेडो में प्रशिक्षित करना है।

आईटीआई के प्रकार(Types of ITI)-

ट्रेड्स के आधार पर आईटीआई मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है ।

  1. इंजीनियरिंग ट्रेड्स (Engineering Trades)
  2. नॉन-इंजीनियरिंग ट्रेड्स (Non-Engineering Trades)

 

इंजीनियरिंग ट्रेड्स (Engineering Trades)-

इंजीनियरिंग ट्रेड्स में विद्यार्थियों को विभिन्न इंजीनियरिंग क्षेत्रों में व्यावसायिक प्रशिक्षण दिया जाता है। इस तरह के ट्रेड में छात्रों को ज्यादातर गणित, विज्ञान जैसे विषयों के बारे में पढ़ाया जाता है। जिन विद्यार्थियो की रूचि इन विषयो में है वो इंजीनियरिंग ट्रेड्स से आईटीआई कर सकते है इसमें विभिन्न शाखाएं शामिल होती हैं जैसे कि फिटर, मशीनिष्ट, टर्नरइलेक्ट्रीशियन, इलेक्ट्रॉनिक्स आदि।

नॉन-इंजीनियरिंग ट्रेड्स (Non-Engineering Trades)-

नॉन-इंजीनियरिंग ट्रेड्स में विद्यार्थियों को विभिन्न नॉन-इंजीनियरिंग क्षेत्रों में प्रशिक्षण दिया जाता है। इसमें कई शाखाएं शामिल होती हैं इस तरह के ट्रेड्स को अधिकतर वही विद्यार्थी चुनते हैं जिनकी रुचि विज्ञान के विषयों में कम होती है। जैसे कि कम्प्यूटर ऑपरेटर और प्रोग्रामिंग असिस्टेंट (COPA), ड्रेस मेकिंग, स्पा थेरेपी, हेयर एण्ड स्कीन केयर आदि।

आईटीआई में एडमिशन के लिए योग्यता(Eligibility for admission in ITI)-

आईटीआई में एडमिशन के लिए योग्यता  राज्य द्वारा ही निर्धारित किये जाते हैं जो अलग अलग राज्य के लिए अलग अलग हो सकते है वैसे तो आईटीआई एडमिशन के लिए कई सारी योग्यताए होती है जिसमें से कुछ मुख्य योग्यताओ को जान लेते है। आईटीआई कोर्स में एडमिशन प्राप्त करने के लिए आपको निम्नलिखित योग्यता मापदंडों को ध्यान रखना चाहिए।

  • अभ्यर्थी को मान्यता प्राप्त बोर्ड से कक्षा 8वीं, 10वीं या 12वीं पास होना चाहिए।
  • अभ्यर्थी को न्यूनतम 40% अंकों के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए।
  • अभ्यर्थी की आयु न्यूनतम 14 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • अभ्यर्थी की अधिकतम आयु का कोई प्रतिबन्ध नही होता है

अधिक जानकारी के लिए राज्य की विस्तृत विवरणिका को पढ़े।

ITI कोर्स की समयावधि(Time period of ITI Course)

आईटीआई  के अलग अलग कोर्स के लिए समयावधि अलग अलग होती है जो सामान्यत् 6 महीने से लेकर 2 वर्ष तक होती है।

आईटीआई के लिए फीस(Fees of ITI)-

ITI के फीस भारत में राज्यों और संस्थानों के अनुसार भिन्न हो सकती है। आपको निकटतम आईटीआई या राज्य की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपने चयनित कोर्स और संस्थान के फीस के बारे में सटीक जानकारी मिल सकती है। यह उपयुक्त फीस जानकारी प्राप्त करने में मदद करेगी।

  1. यह फीस आपके चयनित कोर्स और राज्य के अनुसार भिन्न हो सकती है।
  2. फीस आम तौर पर विषय और पाठ्यक्रम के आधार पर भी भिन्न होती है।
  3. सरकारी आईटीआई में फीस आम तौर पर 2000 से 10000 होती है जबकि निजी आईटीआई में फीस 15,000 से 50,000 तक होती है।

आईटीआई प्रवेश परीक्षा की तैयारी कैसे करें-

आप आईटीआई प्रवेश परीक्षा की तैयारी कैसे करें, इसके लिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स निम्नलिखित हैं:

  1. प्रवेश परीक्षा पैटर्न और सिलेबस: आपको प्रवेश परीक्षा पैटर्न को समझना होगा और उसके अनुसार तैयारी करना होगा। इसके साथ ही सिलेबस के ध्यान रखकर अध्ययन करना होगा।
  2. टाइम टेबल बनाए : प्रतिदिन कितना समय आपके पास तैयारी के लिए उपलब्ध उसके अनुसार टाइम टेबल बनाए और उसका पालन करें।
  3. पिछले वर्षों के प्रश्न पत्र को हल करें: पिछले सालों के प्रश्न पत्रों को हल करने से आपको परीक्षा के पैटर्न को समझने में मदद मिलेगी और आपको पता चलेगा कि कौन-कौन से विषयों पर ज्यादा ध्यान देना होगा।
  4. मॉक टेस्ट दें: ऑनलाइन और ऑफलाइन मॉक टेस्ट देने से आपको पता चलेगा की आपकी तैयारी कैसी चल रही है और आपके कौन टापिक्स पर और अधिक ध्यान देने की जरूरत है।
  5. स्वस्थ खान-पान और व्यायाम: तैयारी के दौरान स्वस्थ रहना भी बहुत आवश्यक है। और सही खान-पान करें और नियमित व्यायाम करें जिससे आपका दिमाग ताजा रहे और आपकी यादाश्त अच्छी रहे।
  6. आत्मविश्वास बढ़ाएं: खुद पर विश्वास रखें और आत्मनिर्भरता बनाए रखे। परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए सकारात्मक सोचें।

इन सरल टिप्स का पालन करके आप अपनी आईटीआई प्रवेश परीक्षा की तैयारी को अच्छे से कर सकते हैं। ध्यान और मेहनत से  आप इस परीक्षा में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

आईटीआई कोर्स में एडमिशन कैसे ले(How to take admission in ITI course)-

आईटीआई में एडमिशन प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित प्रक्रिया का पालन करे।

  1. अधिसूचना जाँचें: सबसे पहले, आपको अपने राज्य या क्षेत्रीय आईटीआई की अधिसूचना देखनी चाहिए। इसमें पाठ्यक्रम, योग्यता, आवेदन की अंतिम तिथि और अन्य जानकारी दी जाती है।
  2. योग्यता की जाँच करें: आवेदन करने से पहले, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप उस आईटीआई के लिए योग्य हैं जिसमें आप एडमिशन लेना चाहते हैं। यह आपकी शैक्षणिक योग्यता और अन्य आवश्यकताओं पर निर्भर करेगा।
  3. आवेदन पत्र भरें: आपको अधिसूचना के अनुसार ऑनलाइन आवेदन करना होगा।
  4. प्रवेश परीक्षा दें (यदि लागू हो): कुछ राज्य 10वीं या 12वीं के मेरिट के आधार पर तथा कुछ राज्य एडमिशन के लिए लिखित प्रवेश परीक्षा का आयोजन कर सकते हैं। आपको इस परीक्षा में उत्तीर्ण होना होगा ताकि आपको अगले चरण में बुलाया जा सके।
  5. काउंसलिंग और एडमिशन: यदि आपका नाम प्रवेश परीक्षा में चयन होता है, तो आपको आईटीआई की काउंसलिंग प्रक्रिया में भाग लेना होगा। इसमें आपको अपनी प्राथमिकताएं और अन्य विकल्पों के बारे में बतानी होगी। चयनित छात्रों को एडमिशन दिया जाएगा।

यह एडमिशन प्रक्रिया विभिन्न आईटीआईएस के लिए भिन्न हो सकती है, इसलिए आपको संबंधित आईटीआई की आधिकारिक वेबसाइट या अधिसूचना में दी गई जानकारी के अनुसार आगे बढ़ना चाहिए।

आईटीआई के बाद सैलरी(Salary after ITI)-

आईटीआई करने के बाद आपकी सैलरी बहुत से कारणों पर निर्भर करती है जैसे कि आपके चयनित विषय, क्षेत्र और कंपनी का प्रकार। नीचे कुछ क्षेत्रों में आम तौर पर आईटीआई पास विद्यार्थियो को मिलने वाली सैलरी का अनुमानित रूप से बताया गया है।

  1. सरकारी नौकरी: यदि आप किसी सरकार विभाग में नौकरी पाते हैं, तो आपकी सैलरी बेहतर होती है और आपको विभिन्न भत्ते और लाभ भी मिल सकते हैं। सरकारी नौकरियों में आपकी शुरुआती सैलरी लगभग 25000 से 30000 रुपये तक शुरू हो सकती है।
  2. निजी नौकरी: निजी कंपनियों में भी आपको आकर्षक सैलरी मिल सकती है, लेकिन यह कंपनी के आकार, क्षेत्र और आपके अनुभव पर निर्भर करता है। शुरुआती तौर पर, आपको निजी कंपनियों में 12,000 से 20,000 रुपये प्रतिमाह के बीच की सैलरी मिल सकती है।
  3. खुद का व्यवसाय: आप ITI के बाद खुद का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं, जिसमें आपकी कमाई व्यवसाय के प्रकार पर निर्भर करेगी। यहां पर कोई निश्चित संख्या नहीं होती है, क्योंकि व्यवसाय में आपके प्रतिस्पर्धी क्षेत्र और सफलता का प्रमाण करना असान नहीं होता है।

यह सैलरी के अंदाजे हैं और वे भविष्य में बदल सकते हैं। आपके क्षमता और अनुभव के आधार पर, आपकी सैलरी भी बढ़ सकती है। इसलिए, आपको अपने क्षेत्र में मेहनत करने और नवीनतम जानकारी को प्राप्त करने से हमेशा लाभ होगा।

आईटीआई के बाद क्या करें(what to do after ITI)-

आईटीआई को पूरा करने के बाद आप विभिन्न क्षेत्रों में अनेक विकल्प चुन सकते हैं। नीचे अलग-अलग क्षेत्रों के अनुसार विकल्पों का संक्षेप में वर्णन किया गया है।

सरकारी नौकरी:

आप आईटीआई से प्राप्त की गई शिक्षा और प्रशिक्षण के आधार पर विभिन्न सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन कर सकते हैं। आप फिटर, इलेक्ट्रीशियन, मैकेनिक, वेल्डर, प्लंबर आदि के तौर पर विभिन्न सरकारी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं। जैसे – इसरो, डीआरडीओ, बार्क, रेलवे, विद्युत विभाग, भारतीय वायुसेना, नौसेना, ऊर्जा उत्पादन निगम, ऑर्डिनेंस फैक्ट्रीज, एनटीपीसी, भेल, पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड, दूरसंचार, ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन लिमिटेड, इंडियन आर्मी आदि।

प्राइवेट नौकरी:

आप निजी कंपनियों में अपने ट्रेड के अनुसार नौकरी प्राप्त कर सकते हैं। जिसके लिए कम्पनियाँ समय समय पर कैम्पस प्लेसमेंट करती रहती है तथा ये कम्पनियाँ जॉब से सम्बन्धित अधिसूचना जारी करती रहती है जिसके आधार पर आप सेलेक्सन ले सकते है जैसे मारूती सुजुकी, हिरो, होन्डा, टाटा मोटर्स आदि

उच्च शिक्षा:

आप अपने ITI विषय में आगे की पढ़ाई करके उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं इससे आपको अधिक ज्ञान प्राप्त होगी और आप और बेहतर ज्ञान प्राप्त कर सकते है। जैसे कि डिप्लोमा, बीटेक, सीआईटीएस कोर्स तथा अन्य व्यावसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम।

व्यवसाय:

आप अपने ITI विषय के अनुसार खुद का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप इलेक्ट्रीशियन हैं, तो आप इलेक्ट्रिकल सर्विसेज के लिए व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।

आपको अपने रुचियों, अध्ययन, और क्षमताओं के आधार पर एक उचित करियर चुनने की सलाह दी जाती है। जिससे आप अपने भविष्य को बेहतर और समृद्ध कर सकते हैं।

Spread the love

Leave a comment